Sadhguru recently underwent a brain surgery after massive swelling and bleeding in his brain | दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग, जानें किस बीमारी के चलते सद्गुरु की हुई ब्रेन सर्जरी?

[ad_1]

आध्यात्मिक जगत के जाने-माने गुरु सद्गुरु जग्गी वासुदेव को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है. उनके संगठन ईशा फाउंडेशन ने बुधवार सोशल मीडिया प्लेटफॉम एक्स में एक पोस्ट शेयर करते हुए जानकारी दी कि सद्गुरु को हाल ही में दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग के चलते ब्रेन सर्जरी करवानी पड़ी. सद्गुरु की यह सर्जरी दिल्ली के अपोलो अस्पताल में हुई है.

ईशा फाउंडेशन ने अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. विनीत सूरी के हवाले से कहा कि कुछ दिन पहले ही दिमाग में जानलेवा ब्लीडिंग के बाद सद्गुरु की ब्रेन सर्जरी हुई है. सद्गुरु बहुत अच्छी तरह से ठीक हो रहे हैं और सर्जरी करने वाले डॉक्टरों की टीम का कहना है कि उनकी स्थिति में उम्मीदों से परे सुधार हो रहा है.

अपोलो में वरिष्ठ सलाहाकार न्यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर विनीत सूरी ने बताया कि उन्हें पिछले चार हफ्तों से तेज सिर दर्द हो रहा था. हालांकि वो इस सिर दर्द को नजरअंदाज करते रहे और दवाइयां लेकर वो अपने सारे नॉर्मल एक्टिवीटीज की. डॉ. विनीत ने आगे बताया कि बीते 15 मार्च को असहनीय दर्द की शिकायत के बाद उनका एमआरआई स्कैन हुआ, जिसमें दिमाग और सूजन और ब्लीडिंग का पता चला. इसके बाद 17 मार्च उनकी ब्रेन सर्जरी हुई.

दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग क्यों होती है?
एक हेल्थ वेबसाइट मेडिकल हेल्थ टुडे के अनुसार,  दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग एक गंभीर मेडिकल कंडिशन है जिसे इंट्राक्रानियल हेमरेज (एक तरह का ब्रेन हेमरेज) के रूप में जाना जाता है. यह स्थिति तब होती है जब दिमाग में तरल पदार्थ का निर्माण बढ़ जाता है या दिमाग की नसें फट जाती है, जिससे दिमाग की सेल्स को नुकसान पहुंचता है.

दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग के कारण
दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें हाई ब्लड प्रेशर, सिर में चोट, खून का थक्के जमना, ब्रेन ट्यूमर और संक्रमण शामिल हैं. 

इस मेडिकल कंडिशन के लक्षण
दिमाग में सूजन और ब्लीडिंग की स्थिति के लक्षणों में अचानक तेज सिरदर्द, कमजोरी, सुन्नता, चक्कर आना, बोलने में कठिनाई, नजर संबंधी समस्याएं, दौरे और चेतना का स्तर कम होना शामिल हो सकते हैं.

इस स्थित का इलाज
इस मेडिकल कंडिशन का मुख्य लक्ष्य ब्लीडिंग को रोकना, दिमाग की सूजन को कम करना और दिमाग के डैमेज हिस्सों को होने वाले नुकसान को कम करना है. उपचार रोगी की स्थिति की गंभीरता पर निर्भर करता है. इसमें दवाइयां, सर्जरी या दोनों का कॉम्बिनेशन शामिल हो सकता है.



[ad_2]

Leave a Comment