Holika Dahan 2024 | होलिका दहन के दिन भूलकर भी न लें क़र्ज़, और होली के दिन क्या करें, ज़रूर जाने

[ad_1]

Holi 2024, Lifestyle News

होलिका दहन पर ये नहीं करे काम (डिजाइन फोटो)

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: जैसा कि आप सभी जानते है, फाल्गुन माह की पूर्णिमा तिथि को होलिका दहन (Holika Dahan 2024) किया जाता है। यह दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। इस साल होलिका दहन 24 मार्च, 2024 को मनाया जाएगा।

ज्योतिषियों के अनुसार, इस दिन कुछ बातों का खास ध्यान रखने की जरूरत है। ऐसे में आइए जान लीजिए होली पर क्या करें क्या न करें।

तिथि और समय

पूर्णिमा तिथि आरंभ 24 मार्च, 2024 – सुबह 09 बजकर 54 मिनट से।

पूर्णिमा तिथि समापन 25 मार्च, 2024 – दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर।

होलिका दहन मुहूर्त 24 मार्च, 2024 –

रात्रि 11 बजकर 13 मिनट से 11 बजकर 53 बजे तक।

खुशियों और रंगों का त्योहार ‘होली’ पर भूलकर भी न करें ये काम

ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, यदि आपको पैसों की जरूरत है और किसी से उधार लेना पड़े तो भूलकर भी होलिका दहन के दिन किसी से भी कर्ज न लें वरना आपको अधिक आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

होलिका दहन के समय होलिका की अग्नि में अपने घर से निकला कूड़ा कबाड़ न डालें। ऐसा करना शास्त्रों में शुभ नहीं माना गया है। इसलिए ऐसी गलती भूलकर भी न करें। इसके अलावा, इस शुभ दिन पर तामसिक भोजन खाने से भी बचें।

होलिका दहन के दिन ब्रह्मचर्य का पालन करें। इस दिन बाल और नाखून न काटें।

ज्योतिषियों की मानें तो, यदि आप होलिका दहन देखने के लिए जा रहे हैं तो खाली हाथ बिल्कुल भी न जाएं। आप चाहें तो चावल, मालपुआ, गेहूं की बाली, उपले आदि लेकर जाएं और होलिका की अग्नि में इनकी आहुति दें। गेहूं की बाली को प्रसाद के रूप में ग्रहण कर सकते हैं।

‘होली’ में क्या करना माना जाता हैं शुभ

सुबह उठकर जल में गंगाजल मिलाकर स्नान करें।

होलिका में लकड़ी, पत्ते, गोबर के उपले, सरसों का तेल, तिल, गेहूं के दाने, सूखा नारियल और अक्षत डालकर अग्नि जलाएं।

अलाव के आसपास की जगह को साफ रखें।

होलिका दहन के स्थान को साफ करने के लिए पानी और गाय के गोबर के मिश्रण का उपयोग करें।

देसी घी का दीपक जलाएं और नकारात्मकता दूर करने के लिए प्रार्थना करें।

भगवान विष्णु और धन, प्रचुरता और समृद्धि की देवी लक्ष्मी की पूजा करें।

इस दिन दान-पुण्य करना बहुत लाभकारी माना जाता है।

इस दिन सत्यनारायण भगवान का व्रत रखना शुभ माना जाता है।



[ad_2]

Leave a Comment