Bhalka Tirtha Temple | एक ऐसी जगह जहां बाण लगने के बाद भगवान श्रीकृष्ण पंचतत्व में हुए थे विलीन, दर्शन के लिए आते है श्रद्धालु

[ad_1]

Lord Shri Krishna, Bhalka tirtha, Lifestyle News

भालका तीर्थ के दर्शन (सोशल मीडिया)

Loading

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: जैसा कि, हम जानते है होली का त्योहार (Holi 2024) इस साल 25 मार्च को मनाया जाने वाला है जिसे लेकर हर जगह रंगों के त्योहार की धूम है वहीं पर इस त्योहार का संबंध भगवान श्रीकृष्ण (Lord Krishna) से रहा है। ऐसे ही कुछ खास खबरों में हम आपको ऐसी जगह गुजरात के भालका तीर्थ (Bhalka Tirth)के बारे में बताने जा रहे है जहां पर भगवान श्री कृष्ण ने पंचतत्व में विलीन हुए थे। ऐसा दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का मेला लगा रहता है। 

जानिए क्या है पौराणिक कथा 

इस जगह को लेकर एक पौराणिक कथा भगवान श्री कृष्ण से जुड़ा है भालका तीर्थ जगह पर एक बहेलिए ने भगवान को तीर से घायल कर दिया था उस दौरान भगवान ध्यान में लीन थे। जैसे ही यह बात बहेलिए को पता चली वह पछता रहा था। भगवान जानते थे अब सृष्टि से उनके जाने का समय हो गया है उन्होंने बहेलिए को माफ करते हुए तार दिया। वहीं बाण लगने से घायल श्रीकृष्ण भालका से थोड़ी दूर स्थित हिरण नदी के किनारे पर पहुंचे, यहां पर इस जगह पर भगवान पंचतत्व में विलीन होकर सीधे बैकुंठ धाम चले गए थे। इस दिन के बाद से इस जगह का नाम प्रसिद्ध है।

Bhalka Tirtha Temple, Gujarat, Holi 2024

                                                                                                           भालका तीर्थ

इस जगह जाने से मनोकामना होती है पूरी

गुजरात के इस भालका तीर्थ की महिमा इतनी है कि, यहां पर हर साल हजारों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते है। माना जाता है यहां पर इस जगह के दर्शन करने से सच्चे मन से की गई सभी मुरादें पूरी होती है। इस जगह भालका तीर्थ के अलावा आप चोरवाड तट, पांच पांडव गुफा और सोमनाथ बीच घूमने जा सकते हैं। साथ ही, आप गिर राष्ट्रीय उद्यान, ऊपरकोट किला और साबरमती आश्रम जैसी जगहों पर भी घूमने जा सकते हैं। 

जानिए कैसे पहुंचे

इस जगह के दर्शन करने जाने के लिए आप इस तरह से प्लान कर सकते हैं जो इस प्रकार है..

1- अगर आप दूसरे राज्य से दर्शन के लिए ट्रेन से आ रहे है तो आपको वेरावल रेलवे स्टेशन की टिकट लेना चाहिए। इस जगह के लिए स्लीपर कोच की टिकट 300 से 400 रूपए के बीच होती है।

2- इसके अलावा हवाई जहाज से दर्शन करने आने वाले को राजकोट या केशोद हवाई अड्डे पर ठहरना चाहिए। 

3- भालका तीर्थ गुजरात के सौराष्ट्र के प्रभास क्षेत्र में वेरावल नगर में स्थित है।

4- इसके अलावा सोमनाथ से कई सारे पैकेज भी निकाले जाते हैं। पैकेज के जरिए घूमना भी बेहद आसान है। 



[ad_2]

Leave a Comment